“आरएसएस कार्यकर्ता’ की बेटी ने “इस्लाम” अपनाकर किया “मुस्लिम” युवक से निकाह, अब आया नया मो’ड़

0

आरएसएस संगठन के कार्यकर्ता की बे’टी को मुस्लिम समुदाय के युवक द्वारा अ’गवा करने के मामले में नया मो’ड़ आ गया है। बताया जा रहा है कि कुछ दिनों पहले परिजनों द्वारा आ’रोपी युवक से छु’ड़ाई गई यु’वती को पौंटासाहिब में किसी रिश्तेदारी में रखा हुआ था, लेकिन वहां से भी युवती फ’रार हो गई थी। वह आ’रोपी युवक के साथ उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के बिहारीगढ़ स्थित एक मस्जिद में छि’पी हुई थी। परिजनों को जब इसका पता चला तो उन्होंने उत्तराखंड पुलिस के साथ वहां पर दबि’श दी।

पुलिस ने वहां से युव’ती को ब’रामद कर हरियाणा पुलिस के ह’वाले कर दिया। हालांकि पुलिस अभी युवती के ब’रामद होने की पुष्टि नहीं कर रही है। पंचकूला स्थित एक मदरसे में निकाह करने के बाद बीती 17 जून को जब युवती व आ’रोपी युवक सुरक्षा याचिका की सुनवाई के लिए कोर्ट में जा रहे थे तभी कुछ लोगों ने युवती को आ’रोपी युवक से छुड़ा लिया था। आ’रोप था कि युवक से मा’रपी’ट कर युवती को परिजन साथ ले गए थे। इस संबंध में न तो परिजन बात करने को तैयार थे और न ही पुलिस के पास यु’वती के बारे में कोई जानकारी थी।

पुलिस भी युवती के बारे में कोई जानकारी होने से मना कर रही थी। बताया जा रहा है कि परिजनों ने युवती को पौंटासाहिब में स्थित किसी रिश्तेदारी में रखा हुआ था। इसका पता आ’रोपी युवक को भी चल गया। बताया जाता है कि दो दिन पहले युवती वहां से भी फ’रार हो गई और वह बिहारीगढ़ चली गई। यहां उसे एक मस्जिद में छि’पाया हुआ था। परिजनों को पता चला तो वे शुक्रवार को पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। लेकिन वहां केवल युवती ही मिली, जबकि आरो’पी युवक कहीं छिप गया। इसके बाद उत्तराखंड पुलिस ने यु’वती को हरियाणा पुलिस के हवाले कर दिया।

ये था मा’मला
दस जून की सुबह करीब आठ बजे स’मुदाय विशेष का एक युवक एक आरएसएस संगठन के कार्यकर्ता की 19 साल की लड़’की को शादी से नि’काह कर लिया था। युवती के पिता का आ’रोप है कि आरोपी ने सा’जिश के तहत उसकी बेटी को अ’गवा कर लिया।

आ’रोपी घर से छह-सात तोले सोने के गहने व 40-50 हजार रुपये की नगदी भी चो’री कर ले गया।

इस साजिश में आ’रोपी युवक की बहन व उसके साथियों समेत कई लोगों का हाथ बताया गया। सा’जिश के तहत आरोपी लड़की को अगवा करने के बाद पिंजौर स्थित मदरसे में ले गया। जहां काजी व मौलवी के साथ मिलकर पहले ल’ड़की का नाम बदला। इसके बाद स’मुदाय विशेष के मौजिज लोगों की मौजूदगी में दोनों का निकाह पढ़ा गया। 12 जून को समुदाय विशेष के लोगों द्वारा ल’ड़की की तरफ से हाईकोर्ट में सु’रक्षा को लेकर याचिका अर्जी लगाई गई।
17 को याचिका अर्जी पर सुनवाई के लिए जब युवक व युवती हाईकोर्ट जा रहे थे तो रास्ते में कुछ लोगों ने मा’रपी’ट कर युवती को छु’ड़ा लिया।

कोर्ट में युवती के न पहुंचने पर उसकी याचिका का रद्द कर दिया गया। इसके बाद युवक ने कोर्ट में उसकी पत्नी को अ’गवा करने के मामले में या’चिका दायर की है। एक जुलाई को कोर्ट ने इस मामले में नौ अगस्त की तारीख दी हुई थी।

अभी इस बारे में पुख्ता तौर पर उनके पास कोई जानकारी नहीं आई है। सुना जा रहा है कि ऐसा कुछ हुआ है, लेकिन इसकी अभी पुष्टि नहीं हो पाई है। हम मामले की जांच में लगे हुए हैं।
– आशीष चौधरी, डीएसपी, बिलासपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here